ये 5 बातें बनाती हैं Newton को ख़ास फिल्‍म, जानिए क्यों आ रही है पसंद

 

 

राजकुमार राव शाहिद, सिटी लाइट्स के बाद से लगातार निखरते जा रहे हैं। उनकी एक्टिंग अब नए मुकाम छूती जा रही है। उनकी फिल्म ‘न्यूटन’ ऑस्कर के लिए नॉमिनेट होने के बाद चर्चा में है। इस फिल्म राजकुमार राव की ईमानदार न्यूटन के किरदार में इतनी ग्रैविटी है कि वह आपको अपनी ओर खींच लेगा। आइये जाने इस फिल्म की खासियत :

– फिल्म ‘न्यूटन’ का नूतन कुमार दिल में उतर जाता है और सिद्ध कर देता है कि राजकुमार एक प्योर एक्टर हैं। वे विषय आधारित फिल्में चुन रहे हैं और हर रोल को मंजे हुए ढंग से निभा रहे हैं।

– न्यूटन में वे एक सरकारी कर्मचारी के रोल में हैं जो रूल बुक के मुताबिक चलता है। जिसके कुछ ऊसूल हैं और वे किसी भी कीमत पर उनको फॉलो करने में यकीन करता है। तभी तो वह 18 साल की कम उम्र की लड़की से शादी करने से इनकार कर देता है।

-फिल्म कहानी की नजर से मजबूत है। एक्टिंग के लिहाज से मलाई जैसी है। इस तरह न्यूटन छोटी लेकिन बड़े दिल वाली फिल्म है। यह फिल्म आपके लिए ही है क्योंकि यह फिल्म ऐसे विषय और जगह की बात करती है, जहां तक हमारी पहुंच उस तरह से नहीं है या फिर हम इस पर ज्यादा जोर नहीं देना चाहते हैं।

– न्यूटन’ के इन दो डायलॉग पर जरा गौर फरमाइए, “मां-बाप ने नूतन कुमार नाम रखा था तो सब लोग बहुत मजाक उड़ाते थे तो मैंने टेंथ के फॉर्म में‘नू’ का ‘न्यू’ और ‘तन’ का ‘टन’ कर दिया।

-मेरे से भी पहले बहुत पहले एक न्यूटन था। पढ़ाई करे वक्त उसकी बात कभी समझ नहीं आई पर अब काम करते वक्त आ रही है कि जब तक कुछ नहीं बदलोगे न दोस्त तो कुछ नहीं बदेलगा। फिल्म इसी तरह के हल्के-फुल्के लेकिन गहरे संवादों से भरी पड़ी है। ये सारे पहलू काबिलेतारीफ हैं। फिल्म कहानी, एंटरटेनमेंट और मैसेज तीनों ही समेटे हुए है।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *