कौन है 11360 करोड़ के घोटालेबाज़ नीरव मोदी?

पंजाब नेशनल बैंक की मुंबई स्थित एक ब्रांच में 11360 करोड़ रुपए के फ्रॉड ट्रांजैक्शन मामले में नीरव मोदी के खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई है। वहीं इस मामले में ईडी ने देशभर में कई जगह छापेमारी भी की है। बहरहाल हम जानते हैं कि आखिर इतने बड़े घोटाले को अंजाम देने वाले नीरव मोदी है कौन?

नीरव मोदी पेशे से ज्वैलरी डिज़ाइनर है। उनके पास अरबों की संपत्ति है। देश के विभिन्न शहर जैसे मुंबई, सूरत और दिल्ली में शोरूम और घर है। इस घोटाले को नीरव ने, उनके भाई निशाल, पत्नी अमी और मेहुल चीनूभाई चोकसी के साथ ही बैंक के अधिकारियों के साथ मिलकर अंजाम दिया था। उन्होंने इनके सब के सहारे साज़िश रची और फ्रॉड ट्रांजैक्शन्स को अंजाम दिया।

नीरव मोदी की गिनती देश ही नहीं, बल्कि दुनिया के सबसे अमीर एंटरप्रेन्योर में होती है। बता दें कि वे पहले ऐसे कारोबारी हैं जिनका जिनका नाम ही उनका ब्रांडनेम बन गया है। 48 वर्षीय मोदी दुनिया की डायमंड कैपिटल कहे जाने बेल्जियम के एंटवर्प शहर के मशहूर डायमंड ब्रोकर परिवार से संबंध रखते हैं।

मोदी के डिजाइनर ज्वेलरी बूटीक लंदन, न्यूयॉर्क, लास वेगास, हवाई, सिंगापुर, बीजिंग और मकाऊ में हैं। भारत में उनके स्टोर दिल्ली और मुंबई में हैं। उनकी बचपन बेल्जियम के एंटवर्प शहर बीता। बचपन से उन्हें आर्ट और डिजाइन का शौक था। दरअसल वो यूरोप के अलग-अलग म्यूजियम में आते-जाते थे।

उन्होंने भारत में बसने और डायमंड ट्रेडिंग बिजनेस की बारीकियों को सीखने के बाद साल 1999 में उन्होंने फायरस्टार की नींव रखी। वो साल 2010 में क्रिस्टी और सॉदबी के कैटालॉग पर जगह बनाने वाले पहले भारतीय ज्वेलर बने। उन्हें 2013 में फोर्ब्स लिस्ट ऑफ इंडियन बिलिनेयर में जगह बनाई। उसके बाद से आजतक वो अपनी जगह बनाए हुए हैं।

मोदी द्वारा डिजाइन किया गया गोलकोंडा नेकलेस वर्ष 2010 में हुई नीलामी में 16.29 करोड़ रुपए में बिका था। वहीं साल 2014 में एक नेकलेस 50 करोड़ रुपए में नीलाम हुआ था। उनके पास पास 1.73 अरब डॉलर (लगभग 110 अरब रुपए) की संपत्ति है।

जहाँ तक उनके ग्राहकों की बात करें दुनिया के जाने-माने लोग शामिल हैं। केट विंस्लेट, रोजी हंटिंगटन-व्हाटली, नाओमी वॉट्स, कोको रोशा, लीजा हेडन और एश्वर्या राय जैसी भारतीय और अंतरराष्ट्रीय अभिनेत्रियां भी शामिल हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *