मुंबई का 8वीं फेल लड़का बना करोड़पति, रिलायंस समेत कई कंपनी इनकी क्लाइंट

 

हमने पढ़ाई न करने की वजह से कई बार अपने पैरेंट्स या टीचर की डांट सुनी है और हमेशा पेरेंट्स से यही सुना है कि पढ़ाई का समय है तो पढ़ाई कर लो नहीं तो फिर यह समय कभी नहीं आएगा। ऐसी ही मुंबई के एक लड़के कहानी है जिसका कभी पढाई में मन नहीं लगा लेकिन आज उसने एक ऊंचा मुकाम हासिल कर लिया है।

यह कहानी है मुंबई के रहने वाले त्रिशनित अरोरा की। जिनका पढ़ाई में बिलकुल मन नहीं लगता था। इस वजह से उनका पूरा परिवार परेशान रहता था। लेकिन उन्होंने परिवार की सुनने की बजाय अपने दिल की सुनी और अपनी हॉबीस को अपना करिअर बनाया। आज वो महज 23 साल की उम्र में साइबर सिक्युरिटी एक्सपर्ट बन चुके हैं।

हाल ही में ह्यूमन ऑफ बॉम्बे के फेसबुक पेज पर उनकी इंस्पिरेशनल स्टोरी शेयर की गई है। जिसमें बताया गया है कि कैसे वो स्कूल की पढ़ाई छोड़कर भी अपना मुकाम हासिल किया। उन्होंने महज आठवीं तक पढाई की। लेकिन कभी आठवीं पास नहीं कर पाए।

त्रिशनित अरोरा का कहना है कि बचपन से ही उन्हें कम्प्यूटर में जिज्ञासा थी। वो हर समय वीडियो गेम खेला करते थे। कई बार जब वे देर तक कम्प्यूटर में बैठते थे तो उनके पिता को काफी टेंशन होती थी। वो रोज कम्प्यूटर का पासवर्ड चैंज किया करते थे। लेकिन त्रिशनित रोज पासवर्ड को क्रेक कर दिया करता था। जब इस बात को पिता ने नोटिस किया तो नया कम्प्यूटर लाकर दे दिया। जिसने उनका बदल दिया।

इसके बाद वे स्कूल छोड़ और कम्प्यूटर की बारीकियों सीखने लगे। 19 साल की उम्र में वो कम्प्यूटर फिक्सिंग और सॉफ्टवेयर क्लीनिंग करना सीख गए थे। जिसके बाद वो छोटे प्रोजेक्ट्स पर काम करने लगे। उन्होंने पहली कमाई 60 हजार रुपये की। आज खुद की कंपनी टीएसी सेक्यूरिटी सॉल्यूशन बनाई। जो एक साइबर सिक्युरिटी कंपनी है। वहीं उन्होंने 8वीं फेल होने के बाद स्कूल से दूरी बना ली लेकिन उन्होंने 12वीं डिस्टेंस एज्यूकेशन से की और बीसीए कंप्लीट किया।

रिलायंस भी है इनका क्लाइंट
बता दें कि त्रिशनित अरोरा की कंपनी अब तक रिलायंस, सीबीआई, पंजाब पुलिस, एवन साइकिल जैसी कंपनियों को साइबर से जुड़ी सर्विसेज दे रही हैं। साथ ही वो हैकिंग पर किताबें भी लिख चुके हैं। उन्होंने ‘हैकिंग टॉक विद त्रिशनित अरोड़ा’ ‘दि हैकिंग एरा’ और ‘हैकिंग विद स्मार्ट फोन्स’ जैसी किताबें लिखी हैं।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *